No Picture

मुलाकात

October 31, 2015 sangeeta 0

कुछ तो वजह रही होगी किसी से मुलाकात की बिन बादल बरसात कभी होती नहीं यूँ ही किसी से कभी आँखें चार होती नहीं यूँ […]

No Picture

गीत

October 25, 2015 sangeeta 0

आओ मैं गीत सुनाती हूँं प्यारा सा गीत सुनाती हूँ पन्छी बन उङ जाती हूँ नभ में जितने तारे हैं उनको तोङ मैं लाती हूँ […]

No Picture

प्रेम-भावना

October 18, 2015 sangeeta 0

मानव जीवन भावनाओं से ओतप्रोत है। दया, प्रेम, करूणा व ममता कई भावनाओं से भरा हुआ। इनमें से प्रेम-भावना सर्वोपरि है। एक माता-पिता का अपने […]

No Picture

चाहत

October 10, 2015 sangeeta 4

तमन्ना है आसमाँ को छूने की तमन्ना है चाँद तारे तोडने की तमन्ना है पर्वतों से टकराने की तमन्ना है ईंट से ईंट बजाने की […]

दीपमाला

October 3, 2015 sangeeta 4

जब जगमगग दीप जले झिलमिल ज्य़ोति जले सतरंगी नजारा सजे अंधेरा धरा से टले सुन्दर शाम ढले जब जगमग दीप जले जब जगमग दीप जले […]