No Picture

नया सबेरा

November 28, 2015 sangeeta 0

आँखों में प्यार लिये सपने हजार लिये मैं चली अपने स्वप्न-लोक में तारों की छाँव में बादलों के गाँव में मैं चली अपने स्वप्न-लोक में […]

No Picture

राही

November 22, 2015 sangeeta 0

गीत “रूक जाना नहीं तू कहीं हार के काँटों पे चल के मिलेगें साये बहार के ओ राही, ओ राही” ये राहें हैं वीरानी सी […]

No Picture

प्रभु-स्तुति

November 18, 2015 sangeeta 6

प्रकृति की देख सुन्दर मनोहारी छटा मेरा मन डोला, बोला “अति सुन्दर” हे गिरधर मुरारी, कर दो कुछ ऐसा कि बस जाये मन में रचना […]

No Picture

मंजिल

November 13, 2015 sangeeta 0

श्रध्दा के सुमन यूँ ही खिलते रहें उम्मीदों के दीये यूँ ही जलते रहें कुछ कर गुजरने की इच्छायें प्रबल होती रहें मंजिल पाने के […]

दीपावली

November 5, 2015 sangeeta 0

आज झूमो नाचो जी, दीवाली आने वाली है जम के भँगङा पाओ जी, दीवाली आने वाली है घर को नया सजाओ जी, दीवाली आने वाली […]