No Picture

यह कैसा जीवन है

July 31, 2016 sangeeta 0

यह कैसा जीवन है ख़ुशी के दो पल कब ग़म में बदल जाते हैं लबों की मुस्कान कब आँसू में बदल जाती है यह कैसा […]

No Picture

मेरा आकाश

July 23, 2016 sangeeta 0

तुम्हीं से हो शुरू दास्ताने ज़िंदगी तुम्हीं पर हो ख़त्म तुम्हीं से हो सुबह मेरी तुम्हीं से हो शाम तेरे साथ ये ज़िंदगी जैसे खिलता […]

No Picture

प्रेरणा

July 17, 2016 sangeeta 0

चलो जीत लें जगत को अपने कर्मों के सहारे आशा के रथ पे सवार ज्ञान रूपी सागर के साथ चलो जीत लें जगत को इंद्रधनुषी […]

No Picture

उसकी याद

July 12, 2016 sangeeta 4

उसकी याद तो दिल में थी पर किसी से ज़िक्र ना किया उसको ख़्वाबों में तो हमेशा देखा पर बयान करने का साहस ना किया […]

No Picture

वो लम्हे

July 8, 2016 sangeeta 0

ज़िंदगी के इस मोड़ पर आकर वो लम्हे याद आते हैं जब हाथों में नया खिलौना लिए हम चारों ओर दौड़ते थे जब हमारी सबसे […]

No Picture

आईना

July 2, 2016 sangeeta 0

आईना मतलब दर्पन। जिस तरह से दर्पन में हम अपने आपको पूरे तरीके से देख पाते हैं,अपने व्यक्तित्व को सही से जान पाते हैं ,ठीक […]