No Picture

मुसाफिर

March 27, 2017 sangeeta 0

आदमी मुसाफिर है, आता है, जाता है आते जाते रस्ते में, यादें छोड़ जाता है़ इस गीत में सच ही कहा गया है कि आदमी […]

No Picture

तेरे आने से

March 21, 2017 sangeeta 0

जीने की वजह मिल गई है तेरे आने से मुस्कराने की वजह मिल गई है तेरे आने से छाया है नया नूर तेरे आने से […]

फागुनी बयार

March 7, 2017 sangeeta 0

फागुनी बयार ने दी दस्तक है रंग-बिरंगी आभा ने समां बाँधा है बदलते मौसम का परिवेश है हर तरफ नये आलम का दौर है आसमान […]